सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पत्थर-बम बरस रहे हों तो जवानों को मरने के लिए नहीं कह सकता: बिपिन रावत



नई दिल्ली। सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने युवा अधिकारी के कश्मीरी व्यक्ति को मानव ढाल के रूप में इस्तेमाल किए जाने का पुरजोर बचाव करते हुए कहा है कि जब जवानों पर बम और पत्थर फेंके जा रहे हों तो सेना प्रमुख के तौर पर वह उन्हें मरने के लिए नहीं कह सकते।

उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर में भारतीय सेना 'घृणित युद्ध' का सामना कर रही है, जिसे 'नए' तरीके से लड़ने की जरूरत है। पिछले महीने एक व्यक्ति को सेना की जीप से बांधने और पथराव करने वालों के खिलाफ उसका इस्तेमाल मानव कवच के रूप में करने वाले मेजर लीतुल गोगोई को सेना प्रमुख ने सम्मानित किया था, जिसकी मानवाधिकार कार्यकर्ताओं, कश्मीरी समूहों और सेना के कुछ सेवानिवृत्त जनरलों ने आलोचना की थी।

एक विशेष साक्षात्कार में जनरल रावत ने कहा कि मेजर लीतुल गोगोई को सम्मानित करने का मुख्य उद्देश्य बल के युवा अधिकारियों का मनोबल बढ़ाना था जो आतंकवाद प्रभावित राज्य में बेहद मुश्किल परिस्थितियों में काम कर रहे हैं। गोगोई के खिलाफ इस मामले में कोर्ट ऑफ इंक्वायरी भी जारी है। जनरल रावत ने कहा, 'लोग हम पर पथराव कर रहे हैं, पेट्रोल बम फेंक रहे हैं।

ऐसे में जब मेरे जवान मुझसे पूछते हैं कि हम क्या करें तो क्या मुझे यह कहना चाहिए कि बस इंतजार कीजिए और जान दे दीजिए? मैं राष्ट्रीय ध्वज के साथ एक अच्छा ताबूत लेकर आऊंगा और सम्मान के साथ शव को आपके घर भेजूंगा। प्रमुख के तौर पर क्या मुझे यह कहना चाहिए? मुझे वहां तैनात सैनिकों का मनोबल बनाए रखना है। मैं लड़ाई के मैदान से काफी दूर हूं। मैं वहां की स्थिति को कतई प्रभावित नहीं कर सकता।

मैं सिर्फ अपने जवानों से यही कह सकता हूं कि मैं आपके साथ हूं। मैं हमेशा अपने जवानों से कहता हूं, चीजें गलत होंगी, लेकिन कुछ गलत हो गया और आपका इरादा गलत नहीं था तो मैं आपके साथ हूं।' अच्छा होता प्रदर्शनकारी पथराव की बजाए फायरिग करते : जनरल रावत ने कहा, 'यह छद्म युद्ध है और छद्म युद्ध घृणित लड़ाई होती है। इसे घृणित तरीके से अंजाम दिया जाता है। संघर्ष के नियम तब लागू होते हैं जब विरोधी पक्ष आपसे आमने-सामने लड़ता है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Gujarat University Result: जारी हुआ एलएलबी का रिजल्ट, ऐसे करें चेक

नई दिल्ली:

गुजरात यूनिवर्सिटी (Gujarat University) ने एलएलबी के विभिन्न सेमेस्टर का रिजल्ट (Gujarat University Result) जारी कर दिया है. उम्मीदवारों का रिजल्ट गुजरात यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट gujaratuniversity.ac.in पर जारी किया गया है. उम्मीदवार इस वेबसाइट पर जाकर ही अपना रिजल्ट चेक कर सकते हैं. बता दें कि एलएलबी की परीक्षाएं पिछले साल आयोजित की गई थी. उम्मीदवार नीचे दिए गए डायरेक्ट लिंक से अपना रिजल्ट चेक कर सकते हैं.


आपको बता दें कि कई बार वेबसाइट क्रैश हुई है, ऐसे में हो सकता है कि ये लिंक न खुले. ऐसे में आप नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलों कर भी अपना रिजल्ट चेक कर सकते हैं.

Gujarat University LLB 2018 Result ऐसे करें चेक


स्टेप 1: उम्मीदवार अपना रिजल्ट चेक करने के लिए ऑफिशियल वेबसाइट gujaratuniversity.ac.in या http://www.gujaratuniversity.org.in/result_e/result/result.html पर जाएं.
स्टेप 2: वेबसाइट पर दिए गए रिजल्ट के लिंक पर क्लिक करें.
स्टेप 3: अपना LLB का सेमेस्टर चुने.
स्टेप 4: अब रिजल्ट की पीडीएफ आपकी स्क्रीन पर खुल जाएगी.
स्टेप 5: आप इस पीडीएफ को डाउनलोड कर सकते हैं.

RRB Group D result: खत्म होने वाली इंतजार की घड़ी, आने वाला है ग्रुप डी परिणाम

RRB Group D results 2018-19: रेलवे भर्ती बोर्ड अब किसी भी समय आरआरबी ग्रुप डी परिणाम घोषित कर सकता है। रिजल्ट की घोषणा क्षेत्रीय आरआरबी की आधिकारिक वेबसाइट्स पर की जाएगी। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आरआरबी ग्रुप डी रिजल्ट की घोषणा आज (16 फरवरी) या कल (17 फरवरी) में हो सकती है। यही नहीं अगले सप्ताह तक आरआरबी ग्रुप डी परीक्षा के अगले चरण पीईटी (शारीरिक दक्षता परीक्षा) के प्रवेश पत्र भी जारी हो सकते हैं।

इंडियन एक्सप्रेस डॉट कॉम पर प्रकाशित खबर के मुताबिक आआरबी के अधिकारी ने कहा है कि रेलवे भर्ती बोर्ड ग्रुप डी के नतीजे 16 फरवरी यानी आज जारी कर सकता है। नतीजे क्षेत्रीय रेलवे भर्ती बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट्स पर रात 11 बजे से उपलब्ध हो सकते हैं। यह भी कहा गया है कि अगले सप्ताह से पीईटी के एडमिट कार्ड जारी हो सकते हैं। रेलवे ग्रुप डी की सीबीटी परीक्षा 17 सितंबर से शुरू हुई थी और 17 दिसंबर तक चली। 63 हजार पदों पर भर्ती के लिये इस परीक्षा में 1.89 करोड़ उम्मीदवारों ने हिस्सा लिया था। 1.89 करोड़ उम्मीदवारों को अब रिजल्ट का इंतजार है।




स्टेप 1- अपने आरआरबी की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। आ…

पुलवामा से ठीक पहले, उसी पैटर्न पर ईरान में भी हमला, 27 सैनिकों की मौत

जम्मू कश्मीर के पुलवामा हमले के ठीक कुछ घंटों पहले ईरान में भी आतंकियों ने रेवोलुशनरी गार्ड की बस पर आत्मघाती हमला किया था. इस हमले में ईरान के 27 जवानों की मौत हो गई. जबकि 13 घायल हैं. बताया जा रहा है कि ईरानी जवान सीमा पर गश्ती के बाद लौट रहे थे तभी हमला हुआ.

ईरान में यह आत्मघाती हमला खश-जाहेदान रोड पर हुआ. यह ठीक पुलवामा में सेना पर हमले के पैटर्न पर हुआ. रिपोर्ट्स के मुताबिक, जब रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स कर्मी सीमा पर गश्ती के बाद लौट रहे थे तब खश-जाहेदान रोड पर बस के साथ एक कार चलने लगी. जो विस्फोटकों से भरी हुई थी. तभी बस में कार आ घुसी और जोरदार धमाका हुआ. इस हमले में 27 सैनिक मारे गए और 13 घायल हो गए!

IRAN की समाचार एजेंसी IRNA के अनुसार, जैश अल-अदल या सेना के एक अलगाववादी समूह ने न्याय का दावा किया है।
यह घटना पाकिस्तान और अफगानिस्तान के साथ ईरान की अस्थिर सीमा के पास एक रेगिस्तानी सड़क पर हुई थी, जहां समूह को संचालित करने के लिए जाना जाता है। यह दो दिन बाद आता है जब ईरान ने इस्लामी क्रांति की 40 वीं वर्षगांठ को चिह्नित किया।
ट्रक को विस्फोटकों से भरा गया था जब उसमें "…