ज़रूर पढ़ें

Modi लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Modi लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 20 जून 2019

PM मोदी ने संसद सदस्यों को दिया डिनर; सोनिया, राहुल और अखिलेश नहीं हुए शामिल

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बृहस्पतिवार को लोकसभा और राज्यसभा के सदस्यों के लिए राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली स्थित एक पांच सितारा होटल में रात्रिभोज का आयोजन किया। इस रात्रिभोज में सोनिया गांधी, राहुल गांधी और अखिलेश यादव जैसे प्रमुख विपक्षी नेता अनुपस्थित रहे। तृणमूल कांग्रेस, वाम दलों जैसे माकपा और भाकपा, बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और राजद के सांसद भी रात्रिभोज में अनुपस्थित रहे।

बुधवार, 19 जून 2019

एक राष्ट्र, एक चुनाव:पीएम मोदी की अध्यक्षता में हुई सर्वदलीय बैठक



बैठक में मोदी के अलावा गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, जदयू के अध्यक्ष नीतीश कुमार, आरपीआई अध्यक्ष रामदास अठावले और अपना दल अध्यक्ष आशीष पटेल भी शामिल हुये। सूत्रों के अनुसार बैठक के पांच सूत्री एजेंडे में ''एक देश एक चुनाव और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अलावा संसद के दोनों सदनों में कामकाज का स्तर बढ़ाने, आजादी की 75वें सालगिरह पर नया भारत बनाने की कार्ययोजना और विकास की दौड़ में शामिल चुनिंदा जिलों में विकास कार्यों की समीक्षा शामिल है।

 

शनिवार, 1 जून 2019

नई मोदी सरकार में किसानों को मिलेगी 6 हज़ार रुपए सालाना



प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजाना का दायरा बढ़ा दिया गया है, अब इस योजना में छोटे-बड़े सभी किसानों को 6 हज़ार रुपये उनके बैंक अकाउंट के जरिए सालाना दिया जाएगा. अब इसका लाभ 14.5 करोड़ किसानों को मिलेगा.

इस योजना में पहले दो हेक्टेयर तक खेत वाले किसानों को 6 हज़ार रुपये प्रति साल तीन किस्तों में दिया जा रहे थे.

इसके अलावा किसान पेंशन योजना को भी मंजूरी दी गई है. इसके अंतर्गत 18 से लेकर 40 साल तक के किसान को एक रकम का अंश दान करना होगा और इतना ही हिस्सा सरकार की ओर से भी दिया जाएगा. जब ये किसान 60 साल की उम्र को पार कर लेंगे तो इन्हें 3000 रुपये का मासिक पेंशन मिलेगा.

बुधवार, 3 अप्रैल 2019

अगर कोई कहता है कि भारत की सेना मोदी जी की सेना है तो वो ग़लत ही नहीं, देशद्रोही भी: जनरल वीके सिंह



उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक अप्रैल को ग़ाज़ियाबाद में केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह के चुनाव प्रचार में भारतीय सेना को 'मोदी जी की सेना' कहा था.

जनरल सिंह ने कहा, ''भारत की सेनाएं तटस्थ हैं अपने आप के अंदर. इस चीज़ में सक्षम हैं कि वो राजनीति से अलग रहें. पता नहीं कौन ऐसी बात कर रहा है. एक ही दो लोग हैं जिनके मन में ऐसी बातें आती हैं क्योंकि उनके पास तो कुछ और है ही नहीं.'

शनिवार, 2 मार्च 2019

क्या पाकिस्तान के नाम पर होंगे हिंदुस्तान में चुनाव ? क्या कश्मीर का कोई सैनिक समाधान है ?



मोदी सरकार की क्या रणनीति है कश्मीर को लेकर ? इसके पीछे मोदी का  क्या विचार है क्या सोच है ?  आज जब लोग मोदी का विरोध करते है तो कई लोगो को वाजपेयी याद आते है!कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है! जब केजरीवाल जैसे नेता पाकिस्तानी चैनेलो में दिखते है तब भारत को समझना चाहिए आपने जिन नेताओ को चुना है वो देश की रक्षा और सेना के अदम्य सहस को भूलकरअपनी राजनीती की रोटीसेक रहे है


वाजपेयी के सलाहकार रहे ऐ स दौलत का कहना है की हमने कश्मीर को तहस नहस कर दिया है !पुलवामा मोदी का पहली परीक्षा थी ! january २००४ में जब वाजपेयी जी ने मुशर्रफ से समझौता किआ तब ९ साल तक कश्मीर में ख़ामोशी रही  


मोदी की अपनी शख्सियत है और वाजपेयी की अपनी, दोनों के कद को नापने से देश और कश्मीर के हालत नहीं सुधरेंगे , वाजपेयी जी चाहते तो अपनी नाराज़गी पाकिस्तान पर ज़ाहिर करते जिन्होंने ३ बार दोस्ती का हाथ बढ़ाया मगर पाकिस्तान फिर भी नहीं सुधरा !आज अंतराष्ट्रीय स्तर पर मोदी ने ये पैगाम दे दिया है की जो भारत से टकराएगा वो चूर चूर हो जायेगा !

 मोदी ने अपनी नाराज़गी ज़ाहिर कर दी ! आज जमात इ इस्लाम और कल हो सकता है हुर्रियत पे पाबन्दी लग जाये , जो कश्मीर में आतंकवादी संघठनो को पैसा पहुँचाने का काम करते है !

पाकिस्तान बड़ा चिनवी मुद्दा बनता जा रहा है ! राहुल गाँधी ने वायु सेना का पैसा अम्बानी को देने का आरोप  लगाया   है  ! कई नेता मोदी के प्रचार से उत्तर प्रदेश और बिहार की राजनीती पर सवाल उठ रहा है !केजरीवाल कहते है की कितने सैनिकों को शहीद कराओगे ३०० सीट के लिए ? जब हुम्ला हो तब ये लोग पूछते है सर्कार कहा है और जब भारत जवाब देता है तो केजरीवाल जैसे लोग पूछते है सेना पर राजनीती हो रही है !

प्रधान मंत्री का कहना है की कुछ लोगो के सवाल से सैनिको का मनोबल कमज़ोर हो रहा है ! 

फ्रांस अमेरिका और यूनाइटेड किंगडम आज भारत के समर्थन में है ! पाकिस्तान दुनिया में पुलवामा हमले के बाद अलग थलग पद गया है ! जब  हम अज़हर मजूद और हफ़ीज़ सईद जैसे आतंकवदीओ की गिरफ़्तारी मांगते है तब पाक्सितान इस बात को नकार देता है की वो उनकी ज़मीन  में नहीं है ! अंतराष्ट्रीय दवाब के चलते अभी पाकिस्तान ने बताया की अज़हर मसूद शारीरिक रूप से बीमार है और भारत से उसके खिलाफ सबूत मांग रहा है ! अजीब विडम्बना है जब अज़हर मसूद खुद पुलवामा हमले की पुष्टि कर रहा है तो पाकिस्तान को क्या सबूत चाहिए  ? पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान ऐसे आँख मूँद कर कैसे बैठ सकते है ? 



अभी इमरान ख़ान घर का ख़र्च चलाने के लिए पूरी दुनिया से पैसे इकट्ठा कर ही रहे थे कि उससे भी पुरानी मुश्किल सामने आकर खड़ी हो गई.पाकिस्तान के लिए एक ही सन्देश है - न खुदा मिला न विसाले सनम !



(Bipin Sasi is a seasoned journalist and a political observer from India. He can be reached at bipin514@gmail.com for any comments and suggestions)

गुरुवार, 14 फ़रवरी 2019

PAK से छीना MFN दर्जा, पुलवामा हमले के बाद मोदी सरकार के 5 बड़े फैसले



जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले पर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में हुई सुरक्षा मामलों की केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में फैसला लिया गया है कि पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस ले लिया है. गुरुवार को हुए पुलवामा हमले में कुल 40 जवान शहीद हुए थे, आतंकी हमले के बाद से ही देशभर में गुस्सा है.

CCS की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, वित्त मंत्री अरुण जेटली, गृह मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज शामिल हुए. इस बैठक में बड़े फैसले लिए गए हैं...

1. पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस ले लिया गया है. यानी अभी तक पाकिस्तान को भारत के साथ ट्रेड करने में जो छूट मिलती है, वह बंद हो जाएगी.

2. विदेश मंत्रालय अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान को अलग-थलग करने के लिए सभी देशों से बात करेगा. दुनिया के सामने पाकिस्तान के आतंकपरस्ती चेहरे का पर्दाफाश किया जाएगा.

3. 1986 में भारत ने संयुक्त राष्ट्र में आतंकवाद की परिभाषा बदलने के लिए जो प्रस्ताव भी दिया था. उसे पास करवाने के लिए पूरी कोशिश की जाएगी. इस प्रस्ताव को पास करवाने के लिए अन्य देशों पर दबाव बनाया जाएगा.

4. गृह मंत्री राजनाथ सिंह शनिवार को सर्वदलीय बैठक करेंगे. इस बैठक में राजनाथ सिंह पुलवामा हमले पर विपक्षी पार्टियों से विस्तार में चर्चा करेंगे.

5. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी आतंकवाद के खिलाफ खुली जंग छेड़ दी है. उन्होंने कहा कि आतंकवादी बहुत बड़ी गलती कर चुके हैं. उन्होंने सेना को खुली छूट दी है.

गुरुवार, 7 फ़रवरी 2019

प्रधानमंत्री मोदी ने लोकसभा में महागठबंधन को बताया महामिलावट, कहा-जनता इससे दूर रहेगी



राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर बोलते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने महागठबंधन को महामिलावट बताते हुए कहा कि केरल से लेकर बंगाल तक महामिलावट चल रही है। इससे जनता दूर रहेगी। कोलकाता में एक मंच पर रहने वाले केरल में आंख नहीं मिलाते हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि देश को मालूम है कि मिलावट वाली सरकार क्या होती है और अब तो महा-मिलावट आने वाली है। स्वस्थ लोकतंत्र के लिए लोग महामिलावट से दूर रहेंगे। प्रधानमंत्री मोदी ने साफ कहा कि कांग्रेस के अधूरे कार्य मेरी सरकार को पूरे करने पड़े हैं। कांग्रेस के 55 साल सत्ता भोग के साल रहे हैं और हमारी सरकार के 55 महीने सेवा भाव के साल रहे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के 55 वर्षों में देश में स्वच्छता कवरेज केवल 38% था, हमारे 55 महीनों में बढ़कर 98% हो गया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पिछले साढ़े चाल साल में भारत दुनिया की 10वीं से छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गई। हमने बैंक खाते भी खुलवाए। अगर सचमुच में जिस गति से 55 महीने में सरकार चली है। देश की आजादी के बाद अगर आप चाहते तो 20 साल में पूरा कर सकते थे। आपका 2004 का मेनिफेस्टो देख लीजिए, 2009 का मेनिफेस्टो देख लीजिए, 2014 का मेनिफेस्टो देख लीजिए। आपने हर बार तीन साल के भीतर बिजली पहुंचाने के लिए कहा था।

गुरुवार, 13 दिसंबर 2018

मोदी जी से ७ एहम सवाल



राफेल डील की जांच और कई मुद्दों पर चर्चा कराने की विपक्ष की मांग को लेकर गुरुवार को लोकसभा और राज्यसभा में जोरदार हंगामा हुआ। आखिर में सदन की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित कर दी गई। इससे पहले कार्यवाही दो बार स्थगित होने के बाद जैसे ही शुरू हुई कांग्रेस, TDP और शिवसेना के सदस्य हंगामा और नारेबाजी करते हुए लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन के आसन के पास पहुंच गए। वहीं, संसद के ऊपरी सदन राज्यसभा की कार्यवाही गुरुवार सुबह शुरू होने के कुछ ही मिनट बाद दिनभर के लिए स्थगित कर दी गई। शिवसेना के आनंद राव अडसुल ने मांग की कि सरकार को अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए अगले आम चुनाव से पहले अध्यादेश लाना चाहिए। जब  केंद्र  और राज्य में  बीजेपी  की सरकार है तब भी उनके लिए राम मंदिर बस एक हवाई प्रलोभन की तरफ है ! लोगो को आस थी की बीजेपी के आने के बाद राम मंदिर बनेगा मगर अब वो ठग्गा महसूस कर रहे है ! इसका नतीजा तीन राज्यों के विधान सभा के परिणाम में देखने को भी मिला है ! अब देखना ये है की केंद्र में मोदी और UP में योगी क्या नया काम करते है !अभी तक चुनाव से पहले राम मंदिर मुद्दा नहीं था मगर जैसे ही चुनाव नज़दीक आये राम मंदिर को लेके टीवी चैनेलो पर वाद विवाद शुरू हो गया ! देश को गुमराह करने में टीवी भी कुछ कम नहीं !


देश की जनता मोदी जी से कुछ आसान से सवाल पांच सालो से पूछ रही है -

  1. देश का किसान क्यों नाराज़ है ?
  2. सांप्रदायिक नफरत फैलने क्यों दिया गया ?
  3. बीजेपी की तीन राज्यों में हार की वजह क्या है ?
  4. मंदिर और मस्जिद का विवाद क्यू?
  5. नाम बदलने की नौटंकी किस लिए?
  6. वास्तविक मुद्दों की उपेक्षा क्यों ?
  7. जब देश की जनता भुकी मर रही हो तब मूर्तियों पर पैसा बर्बाद करने की ज़रुरत क्यों ?
अगर बीजेपी का ये रवैया रहा तो वो दिन दूर नहीं जब महारष्ट्र में भी हार का सामने करना पड़ेगा ~

बुधवार, 12 दिसंबर 2018

नरेंद्र मोदी ने 24 घंटे से भी कम समय में दो बड़े झटके लिए

नरेंद्र मोदी ने 24 घंटे से भी कम समय में दो बड़े झटका लगा है  ।रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया गवर्नर के इस्तीफे और तीन राज्यों में चुनाव हारने के बाद अब मोदी जी को निवेशकों को चोट लगने के बारे में चिंता करना चाहिए, और अगले साल के आम चुनावों से पहले उन्हें ठीक करने के लिए वह क्या कर सकता है।

पहला दस्तक सोमवार की शाम को आया जब रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के गवर्नर उर्जित पटेल ने अचानक इस्तीफा दे दिया। हालांकि उन्होंने व्यक्तिगत कारणों का हवाला दिया, लेकिन किसी को भी कोई संदेह नहीं है कि यह नई दिल्ली की निरंतर उत्पीड़न थी जिसने मौद्रिक प्रमुख के प्रारंभिक बाहर निकलने का नेतृत्व किया।

मोदी को अब क्या चाहिए  की मंदिर मस्जिद का विवाद ख़तम कर , नामकरण की राजनीती को ख़तम कर ,  लोगो को मूलभूत सुविधा देने पर ध्यान दे ! जब मायवती ने करोडो रूपए का पार्क बनवाया और वह अपने चिन्ह हाथी और आदर्श काशीराम की मूर्ति बनवायी थी तब कई नेताओ ने उनकी निंदा करी  थी , आज जब सरदार पटेल की मूर्ति पर मोदी जी ने करोड़ो  रूपए खर्च किये तो उनसे सवाल करने वाला कोई नहीं था ! क्या मोदी सर्कार की यही प्राथमिकता थी ? जिस देश  में रोज़  एक आदमी भूक से मर रहा  हो उसे आप करोडो की मूर्ति  दिखा कर उसकी  गरीबी का मज़ाक उड़ा   रहे है ? इन तीन राज्यों के परिणाम से आपको समझ लेना चाहये  की आपने क्या गलतिया करी  है ! जनता  को #whatsapp और #twitter से बहुत लम्बे समय तक ब्रमित नहीं किया जा सकता !  

सोमवार, 9 जुलाई 2018

नोएडा: PM मोदी और दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति ने किया दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल फैक्ट्री का उद्घाटन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन ने नोएडा में सोमवार को सैमसंग कंपनी की नई मोबाइल मैन्युफैक्चरिंग फैक्ट्री का उद्घाटन किया। इस मौके पर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु समेत कई नेता मौजूद थे। यह दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल फैक्ट्री है। दक्षिण कोरियाई मोबाइल फोन निर्माता कंपनी सैमसंग की ये यूनिट नोएडा के सेक्टर-81 में है।

मोदी के भाषण के मुख्य अंश
- 'GeM' का मतलब Government e Market। इससे सरकार सीधे उत्पादकों से उत्पाद खरीद रही है। इससे मध्यम और छोटे इंटरप्रिन्योर को फायदा हुआ है। इससे पारदर्शिता भी आई है
- शायद ही भारत में कोई ऐसा मध्यम वर्गीय परिवार होगा जिसमें दक्षिण कोरियाई कंपनी का प्रोडक्ट नहीं होगा।
- 5 हजार करोड़ रुपये का ये निवेश भारत और दक्षिण कोरिया के व्यापारिक रिश्तों को मजबूत बनाएगा।
- ये फैक्ट्री नोएडा और यूपी के लिए गर्व का विषय, सैमसंग की पूरी यूनिट व टीम को बधाई।

पीएम मोदी और दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति मून जे-इन ब्लू लाइन मेट्रो से नोएडा के बोटेनिकल गार्डन पहुंचे। यहां से उनका काफिला सेक्टर 81 पहुंचा।


1990 में भारत में शुरू की पहली यूनिट
सैमसंग के अभी भारत में दो मैन्युफैक्चरिंग प्लांट नोएडा और श्रीपेरुंबदूर में हैं। इसके अलावा पांच आरएंडडी सेंटर भी हैं। कंपनी के 1.5 लाख रिटेल आउटलेट हैं। कंपनी का 2016-17 में मोबाइल बिजनेस रेवेन्यू 34,400 करोड़ रुपए और कुल बिक्री 50,000 करोड़ रुपए रही। सैमसंग के जरिए 70 हजार लोगों को रोजगार मिला हुआ है।

फोगट परिवार को मून दंपती ने चाय पर बुलाया
दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून-जे-इन ने हरियाणा के नामी पहलवान फोगाट परिवार को चाय पर बुलाया है। मून और उनकी पत्नी फोगाट बहनों पर बनी फिल्म दंगल से प्रभावित हैं। इसलिए उन्होंने फोगाट परिवार से मिलने की इच्छा जताई।

लोकप्रिय पोस्ट