PulwamaAttack लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
PulwamaAttack लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

पुलवामा से ठीक पहले, उसी पैटर्न पर ईरान में भी हमला, 27 सैनिकों की मौत



जम्मू कश्मीर के पुलवामा हमले के ठीक कुछ घंटों पहले ईरान में भी आतंकियों ने रेवोलुशनरी गार्ड की बस पर आत्मघाती हमला किया था. इस हमले में ईरान के 27 जवानों की मौत हो गई. जबकि 13 घायल हैं. बताया जा रहा है कि ईरानी जवान सीमा पर गश्ती के बाद लौट रहे थे तभी हमला हुआ.

ईरान में यह आत्मघाती हमला खश-जाहेदान रोड पर हुआ. यह ठीक पुलवामा में सेना पर हमले के पैटर्न पर हुआ. रिपोर्ट्स के मुताबिक, जब रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स कर्मी सीमा पर गश्ती के बाद लौट रहे थे तब खश-जाहेदान रोड पर बस के साथ एक कार चलने लगी. जो विस्फोटकों से भरी हुई थी. तभी बस में कार आ घुसी और जोरदार धमाका हुआ. इस हमले में 27 सैनिक मारे गए और 13 घायल हो गए!

IRAN की समाचार एजेंसी IRNA के अनुसार, जैश अल-अदल या सेना के एक अलगाववादी समूह ने न्याय का दावा किया है।

यह घटना पाकिस्तान और अफगानिस्तान के साथ ईरान की अस्थिर सीमा के पास एक रेगिस्तानी सड़क पर हुई थी, जहां समूह को संचालित करने के लिए जाना जाता है। यह दो दिन बाद आता है जब ईरान ने इस्लामी क्रांति की 40 वीं वर्षगांठ को चिह्नित किया।

ट्रक को विस्फोटकों से भरा गया था जब उसमें "सीमा की रक्षा करने वाले मिशन" से वापस आ रहे गार्ड के सदस्यों को ले जा रहे थे, तभी विस्फोट हो गया और बस में आग लग गई।

समाचार एजेंसी के मुताबिक, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता बहराम कासेमी ने कहा कि ईरान आत्मघाती हमले का बदला लेगा।

PAK से छीना MFN दर्जा, पुलवामा हमले के बाद मोदी सरकार के 5 बड़े फैसले



जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले पर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में हुई सुरक्षा मामलों की केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में फैसला लिया गया है कि पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस ले लिया है. गुरुवार को हुए पुलवामा हमले में कुल 40 जवान शहीद हुए थे, आतंकी हमले के बाद से ही देशभर में गुस्सा है.

CCS की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, वित्त मंत्री अरुण जेटली, गृह मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज शामिल हुए. इस बैठक में बड़े फैसले लिए गए हैं...

1. पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस ले लिया गया है. यानी अभी तक पाकिस्तान को भारत के साथ ट्रेड करने में जो छूट मिलती है, वह बंद हो जाएगी.

2. विदेश मंत्रालय अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान को अलग-थलग करने के लिए सभी देशों से बात करेगा. दुनिया के सामने पाकिस्तान के आतंकपरस्ती चेहरे का पर्दाफाश किया जाएगा.

3. 1986 में भारत ने संयुक्त राष्ट्र में आतंकवाद की परिभाषा बदलने के लिए जो प्रस्ताव भी दिया था. उसे पास करवाने के लिए पूरी कोशिश की जाएगी. इस प्रस्ताव को पास करवाने के लिए अन्य देशों पर दबाव बनाया जाएगा.

4. गृह मंत्री राजनाथ सिंह शनिवार को सर्वदलीय बैठक करेंगे. इस बैठक में राजनाथ सिंह पुलवामा हमले पर विपक्षी पार्टियों से विस्तार में चर्चा करेंगे.

5. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी आतंकवाद के खिलाफ खुली जंग छेड़ दी है. उन्होंने कहा कि आतंकवादी बहुत बड़ी गलती कर चुके हैं. उन्होंने सेना को खुली छूट दी है.