पर्यटन मंत्रालय का सोशल मीडिया पर प्रभावकारी अभियान ‘द ग्रेट इंडिया ब्लाॅग ट्रेन’ की शुरूआत

पर्यटन मंत्रालय का सोशल मीडिया पर
प्रभावकारी अभियान “द ग्रेट इंडिया ब्लाॅग ट्रेन “जिसमें
दुनिया भर के यात्रा ब्लाॅगर्स को शामिल किया गया, की
शुरूआत दिनांक 07 फरवरी, 2018 को श्रीमती रश्मि
वर्मा, सचिव (पर्यटन) ने सफदरजंग रेलवे स्टेशन, नई
दिल्ली से की। सचिव ने पर्यटन और पर्यटन से संबंधित
अन्य पहलुओं को बढ़ावा देने और उन्हें अपनी यात्रा को
देखने के मुद्दे पर ब्लाॅगरों से बातचीत की। इन ब्लाॅगरों
को विभिन्न राज्यों में चलने वाली लक्जरी ट्रेनों पर
देश के विभिन्न स्थलों की यात्रा के लिए आमंत्रित
किया है।
पर्यटन मंत्रालय का सोशल मीडिया पर प्रभावकारी अभियान
‘द ग्रेट इंडिया ब्लाॅग ट्रेन’ की शुरूआत
श्रीमती रश्मि वर्मा, सचिव (पर्यटन) तथा अन्य अधिकारीगण 7 फरवरी, 2018 को आमंत्रित अतिथियों के साथ
पर्यटन मंत्रालय सोशल मीडिया के महत्व को
ध्यान में रखते हुए विपणन के एक प्रभावकारी
उपाय के अंग के रूप में “द ग्रेट इंडिया ब्लाॅग
ट्रेन“ अभियान का आयोजन कर रहा है।
इस अभियान का उद्देश्य घरेलू और विदेशी
बाजारों में भारत की लक्जरी ट्रेनों को एक अनूठे पर्यटन
उत्पाद के रूप में प्रस्तुत करना है। इस अभियान के
अंतर्गत लक्जरी ट्रेनों के साथ-साथ जिन स्थानों का
यह ब्लाॅगर्स दौरा करेंगे उन्हें ये अपने ब्लाॅग, वीडियों   और फोटो के माध्यम से ब्लाॅगर्स/ इन्स्टाग्राम
के जरिए अपने अनुभव साझ्ाा कर प्रचारित करेंगे। इस
पहल से रेलवे और लग्जरी ट्रेन आॅपरेटरों को काफी
हद तक लाभ होगा।
भारत सहित 23 देशों के 60 ब्लाॅगर 15-15
के ग्रुप (दल) में चार लग्जरी ट्रेनों जैसे पैलेस आॅन
व्हील्स, महाराजा एक्सप्रेस, दक्कन ओडिशी और
गोल्डन चैरिअट पर यात्रा का आनन्द लेंगे।
15 ब्लाॅगर्स का प्रथम दल 07 फरवरी, 2018 को
‘’पैलेस आॅन व्हील्स’’ पर यात्रा के लिए सफदरजंग
रेलवे स्टेशन, नई दिल्ली से रवाना हुआ था। दूसरे
दल ने 10 फरवरी 2018 को दिल्ली से ‘’महाराजा
एक्सप्रेस’’ से, जबकि तीसरे दल ने 10 फरवरी 2018
को ही मुंबई के छत्रापति शिवाजी ट£मनल से ‘’दक्कन
ओडिशी’’ में और चैथे एवं अंतिम दल ने 19 फरवरी
2018 को बेंगलूरू से ‘’गोल्डन चैरिअट’’ में एक सप्ताह
की यात्रा की है। रेलवे बोर्ड, राजस्थान, महाराष्ट्र और
कर्नाटक की राज्य सरकारें और इंडियन रेलवे केट¯रग
एंड टूरिज्म काॅरपोरेशन लिमिटेड (आईआरसीटीसी)
इसे घरेलू और विदेशी बाजारों में विलासिता की श्रेणी
में लगातार बढ़ावा दे रहे हैं तथा ट्रेनों पर ब्लाॅगरों
की मेजबानी करके सक्रिय रूप से इस अभियान का
समर्थन कर रहे हैं।