सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

यूपी: जंगल में बंदरों के बीच मिली छोटी बच्ची, मोगली की तरह चलती, खाती और चिल्लाती है

उत्तर प्रदेश के बहराइच में पुलिस को एक लड़की मिली है जिसका व्यवहार सामान्य इंसानों की तरह नहीं है। वह न तो किसी से बातचीत करती है और अपने में ही गुम रहती है। इस 8 साल की लड़की ने इंसानों की जगह बंदरों को अपना साथी बनाया। वह काफी समय से बंदरों के साथ ही रह रही थी। बहराइच में गश्ती के दौरान पुलिस की एक टीम को यह लड़की बंदरों के साथ मोतीपुर रेंज के कटरनियाघाट वाइल्ड लाइफ सेंचुरी में दिखाई दी। इस मामले की जानकारी देते हुए दारोगा सुरेश यादव ने कहा जब उन्होंने इस लड़की को बचाने की कोशिश की तो वह बंदरों के साथ बहुत ही खुश नजर आई।
दारोगा ने कहा जब हमने उसके पास जाना चाहा तो वहां मौजूद सभी बंदर हमपर चिल्लाने लगे और लड़की भी हमपर चिल्लाई। उन्होंने कहा कि काफी मशक्कत करने के बाद हम लड़की को वहां से निकालने में कामयाब हुए। इसके बाद हमने लड़की को इलाज के जिला अस्पताल में भर्ती कराया। जिला अस्पताल के सीएमओ डीके सिंह ने बताया कि लड़की बिलकुल चुपचाप सी रहती है। वह न तो किसी से बात करती है और न ही कुछ कहती है। उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि उसे कोई भी भाषा समझ नहीं आती। लड़की के पास कोई व्यक्ति जाता है तो वह उससे डरकर चिल्लाने लगती है।


डॉक्टरों ने कहा कि चिल्लाने के साथ-साथ वह हिंसक भी हो जाती है। उन्होंने कहा कि इलाज के बाद लड़की की स्थिति में कुछ सुधार आया है। डॉक्टरों का कहना है कि यह लड़की न जाने कितने समय से जंगल में जानवरों के साथ रह रही थी, इस बारे में अभी कुछ भी नहीं कहा जा सकता। अस्पताल के एक कर्मचारी ने बताया कि वह जानवरों की तरह ही बिना हाथ का इस्तेमाल किए सीधे मुंह से खाना खाती है। इसके साथ ही उसे पैरों से चलाने की कोशिश की जाती है लेकिन वह जानवरों की तरह हाथ और पैर का इस्तेमाल करके चलती है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जानिए क्या बोलना चाहते थे अमोल पालेकर, क्यों बोलने से रोका गया ?

बॉलीवुड के वरिष्ठ अभिनेता-निदेशक अमोल पालेकर को शुक्रवार शाम को उस समय असहज स्थिति का सामना करना पड़ा जब नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट (एनजीएमए) के कुछ सदस्यों की ओर से लगातार भाषण के दौरान बाधा डाली गई। इसके चलते वह अपना पूरा भाषण नहीं दे पाए। दरअसल, पालेकर कलाकार प्रभाकर बारवे की याद में आयोजित ‘इनसाइड द इंपटी बॉक्स’ प्रदर्शनी में बोल रहे थे। सोशल मीडिया पर चल रहे वीडियो में दिख रहा है कि वह एनजीएमए के मुंबई और बंगलूरू केंद्रों की एडवाइजरी समिति को कथित तौर पर खत्म करने के लिए संस्कृति मंत्रालय की आलोचना कर रहे हैं। मंच पर मौजूद एनजीएमए के एक सदस्य ने इसका विरोध किया और कहा कि उन्हें कार्यक्रम के बारे में बात करनी चाहिए। इस पर पालेकर ने कहा कि वह उसी बारे में बात करने जा रहे हैं। क्या आप सेंसरशिप लगा रहे हैं। इसके बाद फिर वह मंत्रालय की आलोचना करने लगे।

इस पर एनजीएमए की मुंबई केंद्र निदेशक अनिता रूपावतरम ने ने विरोध किया और कहा कि यह कार्यक्रम प्रभाकर बारवे के बारे में हैं और आप उन्हीं पर बात करें। हालांकि पालेकर ने रुकने से मना कर दिया।

हालांकि पालेकर ने अपनी बात नहीं रोकी और बोलना…

Gujarat University Result: जारी हुआ एलएलबी का रिजल्ट, ऐसे करें चेक

नई दिल्ली:

गुजरात यूनिवर्सिटी (Gujarat University) ने एलएलबी के विभिन्न सेमेस्टर का रिजल्ट (Gujarat University Result) जारी कर दिया है. उम्मीदवारों का रिजल्ट गुजरात यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट gujaratuniversity.ac.in पर जारी किया गया है. उम्मीदवार इस वेबसाइट पर जाकर ही अपना रिजल्ट चेक कर सकते हैं. बता दें कि एलएलबी की परीक्षाएं पिछले साल आयोजित की गई थी. उम्मीदवार नीचे दिए गए डायरेक्ट लिंक से अपना रिजल्ट चेक कर सकते हैं.


आपको बता दें कि कई बार वेबसाइट क्रैश हुई है, ऐसे में हो सकता है कि ये लिंक न खुले. ऐसे में आप नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलों कर भी अपना रिजल्ट चेक कर सकते हैं.

Gujarat University LLB 2018 Result ऐसे करें चेक


स्टेप 1: उम्मीदवार अपना रिजल्ट चेक करने के लिए ऑफिशियल वेबसाइट gujaratuniversity.ac.in या http://www.gujaratuniversity.org.in/result_e/result/result.html पर जाएं.
स्टेप 2: वेबसाइट पर दिए गए रिजल्ट के लिंक पर क्लिक करें.
स्टेप 3: अपना LLB का सेमेस्टर चुने.
स्टेप 4: अब रिजल्ट की पीडीएफ आपकी स्क्रीन पर खुल जाएगी.
स्टेप 5: आप इस पीडीएफ को डाउनलोड कर सकते हैं.

कोर्ट की अवमानना मामले में CBI के पूर्व अंतरिम प्रमुख नागेश्वर राव को SC ने सुनाई दिन भर कोर्ट में रहने की सजा और एक लाख जुरमाना

सीबीआई (CBI) के पूर्व अंतरिम प्रमुख एम नागेश्वर राव (Nageswara Rao ) ने मंगलवार को स्वीकार किया कि सीबीआई का अंतरिम प्रमुख रहते हुए जांच एजेंसी के पूर्व संयुक्त निदेशक ए के शर्मा का तबादला करके उन्होंने गलती की। उन्होंने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में हलफनामा दाखिल कर बिना शर्त माफी मांगी थी। शर्मा बिहार के मुजफ्फरनगर में बालिका गृह मामले की जांच कर रहे थे। कोर्ट ने कहा कि नागेश्वर राव और सीबीआई के विधि अधिकारी ने अदालत की अवमानना की है। कोर्ट ने कहा के सीबीआई के अंतरिम निदेशक राव को बेंच के उठने सुप्रीम कोर्ट में रहने की सजा सुनाई है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सीबीआई के अभियोजन निदेशक को अदालत की आज की कार्यवाही खत्म होने तक हिरासत में रहने की सजा सुनाई और उन पर एक लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया। कार्ट ने राव और अभियोजन निदेशक धांसू राम से कहा - अदालत के एक कोने में चले जाएं और कार्यवाही खत्म होने तक वहां बैठे रहें।