रामनाथ कोविंद का राष्ट्रपति बनना लगभग तय योगी ने कहा सभी दल समर्थन दें



नई दिल्ली - भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी की मीटिंग के बाद एनडीए के प्रत्याशी के नाम पर राम नाथ कोविंद के नाम पर घोषणा की है कानपूर देहात के रहने वाले राम नाथ कोविंद ने हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में प्रैक्टिस भी किया है | संसद की अनेक समितियों में इनका योगदान किया है | दलित सामज से आने वाले राम नाथ कोविंद अभी वर्तमान में बिहार राज्य के गवर्नर के रूप में योगदान दे रहे हैं |


यह है राम नाथ कोविद का जन्म परिचय

राम नाथ कोविन्द का जन्म उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले की (वर्तमान में कानपुर देहात जिला ) , तहसील डेरापुर के एक छोटे से गांव परौंख में हुआ था। कोविन्द का सम्बन्ध कोरी या कोली जाति से है जो उत्तर प्रदेश में अनुसूचित जाति के अंतर्गत आती है। वकालत की उपाधि लेने के पश्चात दिल्ली उच्च न्यायालय में वकालत प्रारम्भ की। वह १९७७ से १९७९ तक दिल्ली हाई कोर्ट में केंद्र सरकार के वकील रहे। ८ अगस्त २०१५ को बिहार के राज्यपाल के पद पर नियुक्ति हुई।

वर्ष १९९१ में भारतीय जनता पार्टी में सम्मिलित हो गये। वर्ष १९९४ में उत्तर प्रदेश राज्य से राज्य सभा[3] के निर्वाचित हुए। वर्ष २००० में पुनः उत्तरप्रदेश राज्य से राज्य सभा[3] के लिए निर्वाचित हुए। इस प्रकार कोविन्द लगातार १२ वर्ष तक राज्य सभा के सदस्य रहे। वह भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता भी रहे

वह भाजपा दलित मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और अखिल भारतीय कोली समाज अध्यक्ष भी रहे। वर्ष १९८६ में दलित वर्ग के कानूनी सहायता ब्युरो के महामंत्री भी रहे।