ज़रूर पढ़ें

‪Ram Nath Kovind‬ लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
‪Ram Nath Kovind‬ लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

रविवार, 17 मार्च 2019

Saalumarada Thimmakka : जब ‘वृक्ष माता’ ने राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद का कड़ा प्रोटोकाल तोड़ दिया आशीर्वाद


पद्म पुरस्कारों के वितरण समारोह में राष्ट्रपति भवन का कड़ा प्रोटोकाल भी कर्नाटक में हजारों पौधे लगाने के लिये पद्म श्री से सम्मानित 106 साल की सालूमरदा थीमक्का को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को आशीर्वाद देने से नहीं रोक सका. पुरस्कार लेने पहुंची थीमक्का ने आशीर्वाद स्वरूप राष्ट्रपति के माथे को हाथ लगाया. थीमक्का ने बरगद के 400 पेड़ों समेत 8000 से ज्यादा पेड़ लगाएं हैं और यही वजह है कि उन्हें ‘वृक्ष माता' की उपाधि मिली है.

उन्हें राष्ट्रपति भवन में शनिवार को अन्य विजेताओं के साथ पद्म पुरस्कार से सम्मानित किया गया. कड़े प्रोटोकाल के तहत आयोजित होने वाले समारोह में हल्के हरे रंग की साड़ी पहने थीमक्का ने अपने मुस्कुराते चेहरे के साथ माथे पर ‘त्रिपुण्ड्र' लगा रखा था. जब थीमक्का से 33 साल छोटे राष्ट्रपति ने पुरस्कार देते वक्त उनसे चेहरा कैमरे की तरफ करने को कहा तो उन्होंने राष्ट्रपति का माथा छू लिया और आशीर्वाद दिया. थीमक्का के इस सहज कदम से राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और अन्य मेहमानों के चेहरे पर मुस्कान आ गई और समारोह कक्ष उत्साहपूर्वक तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा.

रविवार, 24 सितंबर 2017

राजीव महर्षि बने नए कैग, राष्ट्रपति ने दिलाई शपथ




पूर्व गृह सचिव राजीव महर्षि अब देश के नए नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) बन गए हैं। आज राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उन्हें पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। 62 वर्षीय महर्षि ने शशिकान्त शर्मा की जगह ली है। शर्मा ने 23 मई, 2013 को कैग का पद संभाला था। शपथ ग्रहण समारोह में उप राष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू , प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मौजूद थे।

राजस्थान कैडर के 1978 बैच के भारतीय प्रशासनिक सेवा के सेवानिवृत्त अधिकारी महर्षि ने पिछले महीने गृह सचिव के रूप में 2 साल का तय कार्यकाल पूरा किया था। कैग के रूप में महर्षि का कार्यकाल तीन साल का होगा। कैग की नियुक्ति छह साल या 65 वर्ष की आयु पूरी होने तक की जाती है। संवैधानिक अधिकारी के तौर पर कैग के ऊपर केंद्र सरकार और राज्य सरकारों के खातों के ऑडिट की जिम्मेदारी होती है। कैग की रिपोर्ट संसद और राज्य विधानसभाओं में पेश की जाती है।

लोकप्रिय पोस्ट