STATE NEWS लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
STATE NEWS लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

पटाखा कारोबारी के घर में विस्फोट से 10 की मौत, अवैध बारूद इकट्ठा करने की आशंका



उत्तरप्रदेश के भदोही में शनिवार सुबह एक पटाखा कारोबारी के घर में हुए विस्फोट में 10 लोगों की मौत हो गई। धमाका इतना तेज था कि मकान ढह गया। मलबे में कुछ लोगों के दबे होने की आशंका है। घर के अंदर लगातार धमाके होने से राहत और बचाव कार्य में देरी हुई।लिस के मुताबिक, रोटहां गांव के इरफान मंसूरी का पटाखों का कारोबार है। उसने घर में ही पटाखों की दुकान खोल रखी थी। सुबह 11 बजे घर में तेज धमाका हुआ। पुलिस को शक है कि इरफान ने घर में बड़ी मात्रा में अवैध तरीके से बारूद या कोई ज्वलनशील पदार्थ जमा कर लिया था।

आईजी पीयूष श्रीवास्तव ने बताया कि एनडीआरएफ की टीम राहत एवं बचाव कार्य में जुटी हुई है। मलबे को जेसीबी मशीनों से साफ कराया जा रहा है। बम निरोधक दस्ते को भी जांच के लिए बुलाया गया है।

मध्य प्रदेश के कमलनाथ और छत्तीसगढ़ में भूपेश बघेल ने किये किसानो के ऋण माफ़

पहले ही दिन सीएम कमलनाथ ने किसानों का कर्जा माफ करने के बाद दो और बड़े फैसले लिए. सरकार ने मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री कन्यादान योजना की राशि को 28 हजार से बढ़ाकर 51 हजार कर दिया. इसके अलावा तीसरा बड़ा फैसला है, नए उद्योग लगाने पर या मध्यप्रदेश में निवेश करने पर उद्योगपतियों को सिर्फ तभी सब्सिडी मिलेगी जब उद्योगों में 70 प्रतिशत रोजगार स्थानीय लोगों को दिया जाएगा.

उधर छत्तीसगढ़ में भूपेश बघेल की पहली कैबिनेट मीटिंग के तीन बड़े फैसले -

1. 16 लाख 65 हजार से अधिक किसानों का 6100 करोड़ रूपये का कर्जा माफ.
2. धान का समर्थन मूल्य 2500 रूपये प्रति क्विंटल किया गया.
3. झीरम हमले के शहीदों को न्याय दिलाने के लिए SIT का किया गठन.

इन हम फैसलों को देखकर लगता है की कांग्रेस चुनाव के बाद अपने वादों पर खरी उत्तरी और मोदी जी की गलतियों  से सीख ली !

राजधानी सहित अन्य शहरों के विश्वविद्यालयों में जल्द ही सर्जरी हो सकती है



सहित अन्य शहरों के विश्वविद्यालयों में जल्द ही सर्जरी हो सकती है। इसमें कई कुलपति और रजिस्ट्रार को बदला जा सकता है। खास बात तो यह है कि किसी एक संगठन की विचारधारा वाले अधिकारियों को इस सर्जरी का हिस्सा बनाया जा सकता है। चाहे बात बरकतउल्ला विश्वविद्यालय की करें या अटल बिहारी वाजपेयी हिंदी विश्वविद्यालय की या फिर प्रदेश के एक मात्र तकनीकी विश्वविद्यालय आरजीपीवी की। सभी जगह सर्जरी होना लगभग तय माना जा रहा है।

खास बात तो यह है कि बरकतउल्ला विश्वविद्यालय के कुलसचिव यूएन शुक्ला का कार्यकाल 13 दिसंबर को समाप्त हो रहा है। इनका कार्यकाल बढ़ाने के लिए फाइल तो वल्लभ भवन पहुंच गई है, लेकिन कार्यकाल बढ़ाने का आदेश जारी नहीं हो पाया है। इधर, प्रमुख सचिव उच्च शिक्षा नीरज मंडलोई का कहना है कि फिलहाल यूएन शुक्ला को अंतरिम रूप से कार्य करने के लिए कहा जाएगा। जब तक अंतिम आदेश नहीं आ जाता। इससे स्पष्ट है कि सरकार बदलने के बाद यहां भी बड़े फेरबदल हो सकते हैं।



बता दें कि बीयू में छह करोड़ रुपए से सड़कें बनाने के मामले में विवि को ब्याज देना पड़ा। कर्मचारियों के खाते में ज्यादा पैसे जमा हो गए। उत्तर पुस्तिका जांचने में घोटाला उजागर हुआ। वाहन सेल में गाड़ियां मंत्रियों को भिजवाई गई। इन सब घटनाक्रम के बावजूद बीयू के रजिस्ट्रार की प्रतिनियुक्ति बढ़ाने की फाइल पर विचार किया जा रहा है।

इन पर गिर सकती है गाज

आरजीपीवी के कुलपति प्रो सुनील कुमार गुप्ता अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के करीबी माने जाते हैं। हालांकि इनकी नियुक्ति 22 जून 2017 को ही हुई है, लेकिन सरकार बदलने पर इनकी नियुक्ति पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं। वहीं, आरजीपीवी के रजिस्ट्रार एसके जैन पर भी गाज गिर सकती है।

विवि में नियुक्त किए गए शशिरंजन अकेला पर भी गाज गिरने की आशंका है। इधर, हिंदी विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार सुनील कुमार पारे और कुलपति रामदेव भारद्वाज भी इस सर्जरी में शामिल हो सकते हैं। ऐसा ही हाल भोज विश्वविद्यालय सहित अन्य विश्वविद्यालयों का होगा।

कर्नाटक में सरकार विरोधी लहर नहीं : सिद्दरमैया

कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्दरमैया ने शनिवार को दावा किया कि उनकी सरकार के खिलाफ राज्य में कोई विरोधी लहर नहीं है। अगले कुछ महीनों में होने वाले विधानसभा चुनावों में उनकी पार्टी आसानी से बहुमत हासिल कर लेगी।
कर्नाटक के वरिष्ठ पार्टी नेताओं के साथ शनिवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात के बाद सिद्दरमैया ने कहा कि राहुल गांधी सरकार के कामकाज से बेहद खुश हैं। यह जानकर उन्हें बेहद खुशी हुई कि घोषणापत्र (पिछले चुनावों के) में किए गए सभी वादों को पूरा कर दिया गया है। हिंदुत्व के मसले पर भाजपा की ओर से किए गए हमले के बारे में सिद्दरमैया ने कहा कि भाजपा के पास कोई मुद्दा नहीं है। वे अप्रासंगिक मुद्दे उठा रहे हैं। अमित शाह और योगी आदित्यनाथ भी यही मुद्दा उठा रहे हैं।
नरेंद्र मोदी भी संभवत: यही मुद्दा उठाएंगे। उनके द्वारा भाजपा नेताओं को कथित रूप से आतंकवादी कहे जाने संबंधी सवाल पर सिद्दरमैया ने कहा, 'मैंने आतंकवादी नहीं कहा। मैंने सिर्फ इतना कहा था कि वे हिंदुत्व के नाम पर नफरत फैला रहे हैं। मैंने कहा था कि मैं भी हिंदू हूं, लेकिन मानवीय हिंदू।' जब उनसे पूछा गया कि क्या वह अपनी टिप्पणी के लिए माफी मांगेंगे तो उन्होंने पलटकर सवाल किया, 'क्यों'।

बेटे Anil व पोते Aashray के साथ पं. सुखराम ने थामा BJP का दामन





विधानसभा चुनावों से ठीक पहले कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। हिमाचल की राजनीति में चाणक्य कहे जाने वाले पूर्व केंद्रीय संचार राज्यमंत्री पंडित सुखराम ने बीजेपी का दामन थाम लिया हैं। उनके साथ बेटे व वीरभद्र सरकार में पशुपालन विभाग का जिम्मा संभाले अनिल शर्मा व पोते आश्रय शर्मा भी बीजेपी में शामिल हुए हैं। दरअसल कुछ समय पहले अनिल शर्मा के बीजेपी में शामिल होने की बात उठी थी पर उन्होंने इसे महज अफवाह करार दिया था। इस के पीछे अहम कारण यह माना जा रहा है कि वरिष्ठ नेता पंडित सुखराम को पार्टी से पिछले कुछ दिनों से तरजीह नहीं दे रही है। इसके चलते उन्होंने पार्टी छोड़ने का मन बना लिया है। इसके अलावा सुखराम अपने पोते के लिए भी टिकट चाह रहे थे। मिली जानकारी के मुताबिक उन्होंने कुछ समय पहले बीजेपी के नेताओं के समक्ष पार्टी का दामन थामा।



वीरभद्र से रहा छत्तीस का आंकड़ा

पंडित सुखराम व हिमाचल प्रदेश मुख्यमंत्री वीरभद्र ¨सह के बीच छत्तीस का आंकड़ा रहा है। सुखराम 1986 में घर पर सीबीआइ की दबिश में अपनी ही पार्टी के नेताओं का हाथ बताते थे। उन्होंने 1998 में हिविकां का गठन कर चुनाव लड़ा और पांच सीटें जीतीं। 31 सीटें जीतने वाली भाजपा को समर्थन देकर पांच साल तक सरकार चलाई। 2003 के चुनाव से पहले वह फिर कांग्रेस में लौट गए थे। पुराने गिले-शिकवे भुला वह कई बार वीरभद्र ¨सह से मिलने शिमला भी पहुंचे।

गुरदासपुर लोकसभा चुनाव में भाजपा की शर्मनाक पराजय

गुरदासपुर: पंजाब के गुरदासपुर में हुए उप चुनावों के आज आए नतीजे बीजेपी के लिए तगड़ा झटका साबित हुए. कांग्रेस के कैंडिडेट सुनील जाखड़ ने 1,93,219 वोटों से जीत हासिल की. मतगणना शुरू होने के बाद से ही कांग्रेस के उम्मीदवार सुनील जाखड़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अपने प्रतिद्वंद्वी स्वर्ण सलारिया से आगे चल रहे थे. कांग्रेस में जश्न का माहौल है.

नवजोत सिंह सिद्धू ने जश्न के माहौल के बीच कहा है कि यह हमारे संभावित पार्टी प्रेजिडेंट राहुल गांधी के लिए लाल रिबन में लिपटा हुआ दिवाली का खूबसूरत तोहफा है.

अवैध खनन में भाजपा नेता शुक्ला को 1.68 करोड़ चुकाने का नोटिस



 भाजपा के वरिष्ठ नेता विष्णुप्रसाद शुक्ला की मुश्किलें बढ़ गई हैं। जिला प्रशासन ने उन्हें अवैध खनन मामले में एसडीओ कोर्ट से दोषी बताए जाने के बाद 1.68 करोड़ रुपए की राशि वसूलने के लिए नोटिस जारी कर दिया है और यह नोटिस तामील भी हो गया है। सांवेर तहसीलदार ने एसडीओ कोर्ट द्वारा लगाए गए अर्थदंड को वसूलने के लिए यह नोटिस जारी किया था। राशि जमा नहीं होने पर जिला प्रशासन द्वारा कुर्की की कार्रवाई की जाएगी।
- फरवरी 2017 में जिला प्रशासन द्वारा पूरे जिले में अवैध उत्खनन को लेकर एक साथ छापे की कार्रवाई की गई थी। इसमें ग्राम बारोली (सांवेर) के कुछ सर्वे नंबरों पर भी अवैध उत्खनन होना पाया गया था। खनिज विभाग और राजस्व निरीक्षक द्वारा

रेल में सबसे पहले संचालन व्यवस्था को ठीक करने की सबसे ज्यादा जरूरत है


ऑस्ट्रेलिया की जितनी आबादी  है उतने लोग हमारे यहाँ रेल में सफर करते है रोज़ और  हमारे मंत्री सिर्फ इसी में लगे रहते है की कौन  सी ट्रैन किसके विधान सभा क्षेत्र में रुके  ! सिर्फ ट्रैन में बैठने वाला ही असुरक्षित नही है...ट्रैन से उतरने के बाद भी लोग असुरक्षित हो गए हैं ! शिव सेना संसद अरविन्द सावंत की मने तो उन्होंने ५ बार रेल मंत्री को पत्र लिखा था पुल  की चौड़ाई  बढ़ाने ! सर्कार की सुरक्षा प्रावधान को देखा जाये तो यह लगता है की आम आदमी की जान की कोई कीमत  नहीं है ,बहुत बारिश है, घर पर रहा तो नौकरी जाएगी..सड़क पर निकला तो डूब जाएगा,  लोकल से गया तो फुटऑवर ब्रिज पर दम घुट जाएगा  !     मंत्री पियूष गोयल अब कैपेसिटी ऑडिट और निरिक्षण की बात कर रहे है ! क्या २२ लोगो की मौत के बाद  मंत्री जी का विवेक आएगा  ?



मुजफ्फरनगर रेल हादसा: लापरवाही ने ले ली 23 लोगों की जान, करीब 100 घायल



यूपी के मुजफ्फरनगर में शनिवार शाम हुए भीषण ट्रेन हादसे में मरने वालों की संख्या 23 हो गई है. हादसे में करीब 150 से ज्यादा लोग घायल बताए जा रहे हैं. इनमें से 26 लोग गंभीर रूप से जख्मी हैं, वहीं बाकी लोगों को हल्की चोटें आई हैं. फिलहाल, पुलिस-प्रशासन का अमला मौके पर मौजूद है. राहत-बचाव का काम जारी है.

इस रेल हादसे के पीछे बड़ी लापरवाही की भी बात सामने आ रही है. घटनास्थल के पास पटरियां कटी हुई हैं और वहां से हथौड़े, रिंच और अन्य औजार मिले हैं. बताया जा रहा है कि मुजफ्फरनगर के खतौली में ट्रैक पर मरम्मत का काम चल रहा था. ऐसे में फिर सवाल उठ रहा है कि ट्रेन को उक्त ट्रैक पर जाने क्यों दिया गया?

ये हादसा शनिवार शाम 5 बजकर 46 मिनट पर हुआ. ट्रेन संख्या 18477 कलिंग-उत्कल एक्सप्रेस पुरी से हरिद्वार की तरफ जा रही थी. इसी दौरान मुजफ्फरनगर के खतौली रेलवे स्टेशन के पास ट्रेन के 14 डिब्बे पटरी से उतर गए. पटरी से उतरे डिब्बे ट्रैक के पास बने मकानों और स्कूल इमारत में घुस गए.

पीट-पीटकर हत्या किए जाने की खबरों से खौलने लगता है खूनः प्रियंका गांधी



नई दिल्ली। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शनिवार को नेशनल हेराल्ड के स्मारक संस्करण को लॉन्च किया। इस कार्यक्रम में प्रियंका गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह सहित कई विपक्षी दलों के नेता भी मौजूद रहे। कार्यक्रम के दौरान प्रियंका गांधी वाड्रा ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा की पीट-पीटकर हत्या की घटनाओं से उन्हें बेहद गुस्सा आता है और उनका खून खौलने लगता है।


नेशनल हेराल्ड द्वारा स्मारक प्रकाशन जारी किए जाने के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम से इतर प्रियंका से पूछा गया था कि अतिसर्तकता के नाम पर पीट-पीटकर हत्या जैसी घटनाओं को लेकर क्या उनके भी विचार अपनी मां और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी तथा राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के समान ही हैं। जिसके जवाब में प्रियंका गांधी ने ये बातें कहीं।


प्रियंका ने एक चैनल से बातचीत में कहा, "मेरे विचार भी पूरी तरह से वही हैंष इनसे मुझे बेहद गुस्सा आता है, जब मैं ऐसी चीजें टीवी या इंटरनेट पर देखती हूं तो मेरा खून खौलने लगता है। मुझे बहुत ज्यादा गुस्सा आता है। मुझे लगता है कि इससे सही सोच वाले हर एक व्यक्ति का खून खौलना चाहिए।"


राष्ट्रपति ने खुलेआम की जा रही हत्याओं पर जताई चिंता


राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने अनियंत्रित भीड़ के द्वारा खुलेआम की जा रही हत्याओं पर बेहद गंभीर चिंता जाहिर की। राष्ट्रपति ने बेकाबू भीड़ की लगातार बढ़ती ऐसी हरकतों की ओर सीधे इशारा करते यह सवाल उठाया है कि क्या हमारी व्यवस्था के बुनियादी वसूलों के प्रति हम सजग हैं? प्रणब ने कहा कि अगर हम ऐसी घटनाओं पर सजग नहीं होंगे तो हमारी अगली पीढ़ी हमसे यह हिसाब मांगेगी कि हमने क्या किया।


राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की यह टिप्पणी कथित गोमांस विवाद को लेकर ट्रेन में फरीदाबाद के एक युवक की भीड़ के हत्या करने के ताजा प्रकरण के संदर्भ से जोड़ कर देखी जा रही है। राष्ट्रपति ने जवाहर लाल नेहरू द्वारा स्थापित कांग्रेस के अखबार नेशनल हेराल्ड के आजादी के 70 साल पर प्रकाशित विशेष संस्करण की लांचिंग के मौके पर यह बात कही।


प्रणब ने कहा कि आए दिन समाचार पत्रों में बेकाबू भीड़ के हत्या करने की घटनाएं सामने आ रही हैं। ऐसे में यह सवाल उठाना लाजिमी है कि क्या हम इतने सजग हैं कि हमारे संविधान के बुनियादी उसूल कायम रहे। राष्ट्रपति ने देश में सभी धर्मो और संप्रदायों के साथ क्षेत्रीय और भाषायी विविधता के बावजूद लोगों के एक राष्ट्र के रूप में सहज जीवन को संविधान की अमूल्य देन करार दिया। उन्होंने कहा कि हमारा संविधान केवल शासन का विधान नहीं बल्कि सामाजिक और आर्थिक समरसता को सुनिश्चित करने वाला मैग्नाकार्टा है।


देश में असहिष्णुता के विरद्ध खड़े होने की जरूरत


कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी सोनिया ने अध्यक्षीय संबोधन के दौरान कहा कि देश में लगातार बढ़ रही असहिष्णुता और दिखावे के खिलाफ खड़ा होने की जरूरत है। भाजपा और संघ का नाम लिए बिना सोनिया ने कहा कि जिनका आजादी के इतिहास से कोई सरोकार नहीं रहा, वे हमारी आजादी के महापुरुषों की विरासत को मिटाने या घटाने की कोशिश कर रहे हैं। साथ ही जो उनके विचारों से सहमत नहीं है उनको दबाव या दूसरे हथकंडों के जरिए चुप किया जा रहा है। सोनिया ने कहा कि हम क्या खायें और क्या पीएं, किससे मिले-जुलें यह कोई और तय करे, ऐसी व्यवस्था बनाने की कोशिश हो रही है। ऐसे में देश एक बार फिर दोराहे पर है। अगर अब हम नहीं इसके खिलाफ बोलेंगे तो हमारी चुप्पी को मूक सहमति मान ली जाएगी।