Digvijay singh लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Digvijay singh लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बीजेपी में शामिल हुईं साध्वी प्रज्ञा ठाकुर, भोपाल से चुनाव लड़ना लगभग तय

लोकसभा चुनाव में मध्य प्रदेश की हॉट सीट भोपाल से चुनाव लड़ने की अटकलों के बीच साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर बीजेपी में शामिल हो गई हैं। बुधवार को साध्वी बीजेपी कार्यालय पहुंचीं और पार्टी के नेताओं के साथ भोपाल दफ्तर में बैठक की। बताया जा रहा है कि अब भोपाल सीट से उनका चुनाव लड़ना तकरीबन तय है। सूत्रों के मुताबिक साध्वी की उम्मीदवारी का ऐलान बुधवार शाम तक किया जा सकता है। इस बीच साध्वी के बीजेपी में शामिल होने पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सवाल उठाए हैं।

Sadhvi Pragya : दिग्विजय सिंह के खिलाफ साध्वी प्रज्ञा को मैदान में उतार सकती है बीजेपी

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के खिलाफ बीजेपी भोपाल से साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को चुनाव लड़ा सकती है. पार्टी प्रज्ञा के नाम को लेकर नफा-नुकसान के बारे में सोच रही है. वहीं ऐसा होता है तो भोपाल सीट पर वोटों का ध्रुवीकरण देखने मिल सकता है. भोपाल से दिग्विजय सिंह का नाम आने के बाद से ही बीजेपी प्रज्ञा ठाकुर के नाम पर विचार कर रही है. भोपाल से पार्टी पिछले 30 सालों से चुनाव जीतती आ रही है. दिग्विजय सिंह 1993 से 2003 तक लगातार 10 सालों तक मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे. 2003 में मिली हार के बाद 16 सालों से दिग्विजय सिंह कोई भी चुनाव नहीं लड़े हैं. वहीं इस चुनाव को दिग्विजय सिंह पार्टी का चुनाव बताकर मैदान में उतरे हैं, दिग्विजय का कहना है कि बीजेपी किसी को भी उतारे इससे उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता!

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर मालेगांव धमाके के बाद मीडिया में आयी थी !  बॉम्बे हाई कोर्ट ने मालेगांव धमाका केस में साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को जमानत दे दी थी .

मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि प्रज्ञा ठाकुर को जमानत के लिए पांच लाख रुपये के मुचलके, इसी रकम के दो बॉन्ड और नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी के पास अपना पासपोर्ट जमा कराया गया है ! उमा भर्ती के बाद हिंदुत्व ब्रांड क लिए  साध्वी  प्रज्ञा एक बड़ा नाम है !
सूत्रों का कहना है कि इस बारे में अभी अंतिम फैसला लिया जाना बाकी है। पार्टी की चिंता यह है कि क्या वह 'हिंदुत्व' के मुद्दे को इस ढंग से उठा पाएंगी, कि चुनाव आयोग भी इस पर ऐतराज न करे। यदि साध्वी को उम्मीदवार बनाया जाता है तो विपक्ष को यह कहने का मौका मिल जाएगा कि बीजेपी हिंदू असामाजिक तत्वों को बढ़ावा देती है। 

दिग्विजय सिंह 16 साल बाद अपने लिए वोट मांगेंगे !

अपनी उम्मीदवारी का ऐलान होने के बाद वो देर रात भोपाल पहुंचे, पहले उन्होंने दरगाह जाकर जीत की मन्नत मांगी. भोपाल लोकसभा सीट से कांग्रेस का उम्मीदवार घोषित किए जाने के बाद दिग्विजय सिंह पहली बार भोपाल आए. देर रात सड़क के रास्ते भोपाल पहुंचे दिग्विजय सिंह ने मशहूर दरगाह पर मशहूर दरगाह पर मत्था टेका. दिग्विजय सिंह दूसरों के लिए अक्सर वोट मांगते रहे लेकिन 16 साल बाद अपने लिए वोट मांगेंगे.
उमाभारती ने कहा- दिग्विजय सिंह के भ्रष्टाचार साबित करने का मुझे मौका ही नहीं मिला
प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमाभारती शुक्रवार को भी एक के बाद दस ट्वीट कर भोपाल संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह पर जमकर बरसीं। गुरुवार को भी उमाभारती ने लगातार आठ ट्वीट कर दिग्विजय सिंह पर निशाना साधा था। उमा ने कहा कि उनके मुख्यमंत्री रहते हुए दिग्विजय सरकार के भ्रष्टाचार की जांच बैठाई थी, लेकिन मुझे इसे साबित करने का मौका नहीं मिला। अब मैं भोपाल की हर गली में दिग्विजय के खिलाफ प्रचार करुंगी।